वैष्णो देवी मंदिर में मची भगदड़ और हादसे को लेकर उठे कई सवाल, असली वजह आई सामने

पवित्र धाम वैष्णो देवी जो की जम्मू कश्मीर, कटरा में स्थित है बीती रात वहां भगदड़ की वजह से बारह लोगों की घटनास्थल पर मृत्यु हो गई और कम से कम 13 लोग घायल हैं। नए साल के पहले ही दिन इस दुखद घटना ने सारे देशवासियों को हिला दिया है।

माता वैष्णो देवी मंदिर में हुए इस दुखद घटना पर प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने गहरा दुख व्यक्त किया है साथ ही उन्होंने घटना में मारे गए विभिन्न जगहों से आए श्रद्धालुओं के लिए मुआवजे की भी घोषणा कि है। सारे मृतकों के घर वालों को प्रधनमंत्री रिलीफ फंड के माध्यम से दो 2 लाख रुपए दिए जाने की घोषणा की है और सभी घायलों को उनके इलाज हेतु ₹50000 की राशि दी जाएगी।

इस घटना में सभी प्रभावित लोगों के प्रति संवेदना जाहिर करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मृतकों के प्रति वेदना व्यक्त की तथा सभी घायल व्यक्तियों की जल्दी ठीक होने की प्रार्थना की। गृह मंत्री श्री अमित शाह ने इस घटना को अत्यंत दुखद बताया है। घटना का जिक्र करते हुए उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा कि मंदिर के अंदर हुई इस दुखद घटना से हृदय बहुत व्यथित है।

राज्य के उपराज्यपाल श्री मनोज सिन्हा से मेरी इस संबंध में बातचीत हुई है है तथा प्रशासन भरपूर कोशिस में है कि घायलों की जल्द से जल्द उपचार कराई जाए। उन्होंने कहा कि हादसे में जिन जिन लोगों ने जान गवाए हैं उनके प्रति में वेदना की व्यक्त करता हूं तथा घायलों के जल्दी स्वस्थ होने की कामना करता हूं।

आपको बता दें कि बीती रात इस घटना ने सबको चौंका दिया। घटना की खबर मिलने के बाद राहत और बचाव समूह रात तक काफी मेहनत के बाद मंदिर परिसर के अंदर में फंस गए लोगों को बाहर निकाला और घायलों को त्वरित उपचार हेतु नजदीकी अस्पताल में भेजा गया। इसी बीच माता के दर्शन हेतु जो रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया होती है उसे तात्कालिक रूप से निष्प्रभावी कर दिया गया।

हालांकि जम्मू कश्मीर के डीजीपी श्री दिलबाग सिंह ने कहा कि घटना के 12 घंटे बाद ही माता वैष्णो देवी के दर्शन हेतु रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया पुनः चालू कर दी गई है। घायलों व मृतकों की जानकारी देते हुए उन्होंने कहा कि इस घटना में कुल बारह लोगों की मृत्यु हुई है तथा 13 घायल लोगों को इलाज हेतु अस्पताल में भेजा गया है।

स्थानीय प्रशासन के मुताबिक सभी मृत लोगों की पहचान हो गयी है। मृतकों में धीरज कुमार जो कि जम्मू कश्मीर के ही नौशेरा राजौरी निवासी हैं, यूपी गाजियाबाद निवासी श्वेता सिंह, हरियाणा स्तिथ झज्जर की ममता,यूपी स्तिथ सहारनपुर के धर्मवीर सिंह एवं विनीत कुमार , सोनू पांडेय और विनय कुमार जो कि दिल्ली के निवासी हैं तथा गोरखपुर निवासी अरुण प्रताप सिंह हैं। इस दुखद घटना की सही वजह सामने आई।

केंद्रीय गृह मंत्री नित्यानंद राय, ने घटना की सही वजह बताते हुए कहा कि परिसर में खड़े दो व्यक्तियों के मध्य किसी बात की वजह से बहस हुई और इसी दौरान उन्होंने दूसरे को हल्का धक्का दिया इसके बाद भीड़ में भगदड़ मच गई। आगे उन्होंने बताया कि एक व्यक्ति के दूसरे को धक्का देने से वह ढलान से नीचे खड़ी भीड़ पर आ गिरा और इससे लोग असंतुलित और भयभीत हो गए और भगदड़ मची।

गौरतलब यह है, कि इस हृदयविदारक घटना के बाद जम्मू कश्मीर के उपराज्यपाल श्री मनोज सिन्हा ने हाई लेवल जांच करने का आदेश इस घटना को देखते हुए दिया है। प्रधान सचिव की अध्यक्षता में जांच कमेटी का गठन किया जाएगा, जिनके साथ एडीजीपी , मंडलायुक्त और जम्मू सदस्य शामिल होंगे। साथ ही राज्यपाल ने यह भी ऐलान किया कि सभी मृतकों के परिवार वालों को दस लाख रुपये रुपए मुआवजे के तौर पर दिया जाएगा।

About Vipul Kumar

मैं एक हिंदी और अंग्रेजी लेखक और फ़्रंट एंड वेब डेवलपर हूं। वंदे मातरम

View all posts by Vipul Kumar →

Leave a Reply

Your email address will not be published.