मोदी की सुरक्षा को लेकर हुई बड़ी चूक पर सीएम योगी से स्मृति ईरानी तक भड़के, कहा कांग्रेस की शाजिश थी

पिछले कुछ समय से पंजाब में राजनीति का माहौल गरमाया हुआ है और सभी पार्टियां पंजाब में अपनी सरकार बनाने के लिए लगातार कोशिश कर रही है। चुनाव करीब हैं तो ऐसे में प्रचार के लिए सभी राजनीतिक दलों के प्रमुख पंजाब पहुंच रहे हैं और हाल ही में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की भी एक रैली पंजाब में फिरोजपुर में होने वाली थी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की यह रैली एक उच्च स्तर पर होती और इसमें प्रधानमंत्री जी के द्वारा विकास के विभिन्न मुद्दों पर बात की जाती। लेकिन फिरोजपुर में प्रधानमंत्री जी की सुरक्षा में हुई चूक के कारण यह रैली रद्द करनी पड़ी और इसके बाद से भारतीय जनता पार्टी के द्वारा लगातार पंजाब कांग्रेस पर निशाना साधा जा रहा है।

15-20 मिनट तक फ्लाईओवर पर रुका रहा प्रधानमंत्री का काफिला

हाल ही में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी पंजाब में फिरोजपुर में रैली करने पहुंचे थे लेकिन सुरक्षा संबंधी कारणों की वजह से उन्हें अपनी रैली रद्द करनी पड़ी। दरअसल जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी तय किए हुए स्थल पर जा रहे थे तब उनकी सुरक्षा में चूक हुई और उनके काफिले को 15 से 20 मिनट तक फ्लाईओवर पर रुकना पड़ा। प्रधानमंत्री के कार्यक्रम में बाधा डाली गई और इसके बाद ताकि प्रधानमंत्री को बिना रैली को वापस लौटना पड़ा। उनके काफिले को लंबे समय तक सुरक्षा में अभियुक्त के कारण इंतजार करना पड़ा था और आखिरकार उनके वापस लौटने का फैसला करना पड़ा।

फ़ोन पर बात करने से इनकार कर चुके थे मुख्यमंत्री

वर्तमान में पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी है और अगर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी या फिर इसे स्तर का कोई भी व्यक्ति पंजाब में किसी कार्यक्रम के लिए आता है तो पंजाब सरकार की यह जिम्मेदारी बनती है कि उन्हें संपूर्ण सुरक्षा प्रदान की जाए लेकिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सुरक्षा में एक बड़ी चूक हुई और उसकी वजह से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को अपना कार्यक्रम टालना भी पड़ा। भारतीय जनता पार्टी के द्वारा कहा जा रहा है कि जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी फ्लाईओवर पर फंसे हुए थे तब मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी से बात करने की कोशिश की गई थी लेकिन उन्होंने फोन पर बात करने से इनकार कर दिया। भारतीय जनता पार्टी के सदस्य इस बात पर मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी को जमकर ट्रोल कर रहे हैं।

जेपी नड्डा ने बताया पंजाब कांग्रेस को विकास विरोधी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का काफिला रोके जाने पर और उनकी सुरक्षा में हुई चौक पर भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष जेपी नड्डा ने पंजाब कांग्रेसका जमकर विरोध किया और उसे विकास विरोधी बताया। बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने ट्वीट करके कहा कि ‘यह दुःखद है कि पंजाब के लिए हजारों करोड़ की विकास परियोजनाओं को शुरू करने के लिए आदरणीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी का दौरा बाधित हो गया। लेकिन, हम ऐसी घटिया मानसिकता को पंजाब की तरक्की में बाधक नहीं बनने देंगे और पंजाब के विकास के लिए प्रयास जारी रखेंगे’। इसके अलावा भी जेपी नड्डा ने कई ट्वीट करके पंजाब कांग्रेस का विरोध किया और प्रधानमंत्री जी की सुरक्षा में हुई चूक को कांग्रेस की एक ओछी हरकत बताया।

योगी आदित्यनाथ ने कहा पंजाब कांग्रेस को माफी मांगने के लिए

देश के सबसे बड़े राज्य उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ वर्तमान में देश के सबसे बड़े नेताओं में से एक है और उन्होंने पंजाब में फिरोजपुर में होने वाली रैली से पहले हुई प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सुरक्षा में चूक को लेकर पंजाब की कांग्रेस सरकार को टारगेट किया। योगी आदित्यनाथ ने कहा कि ‘आदरणीय PM श्री

नरेंद्र मोदी जी के पंजाब दौरे के दौरान उनकी सुरक्षा के साथ जो खिलवाड़ पंजाब सरकार के संरक्षण में आज हुआ है वह पंजाब में व्याप्त अराजकता और दुर्व्यवस्था का एक जीता जागता उदाहरण है।कांग्रेस शासित पंजाब की सरकार को देश की जनता से इस बात के लिए माफी मांगनी चाहिए’। अर्थात मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पंजाब कांग्रेस को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सुरक्षा में हुई चूक के लिए माफी मांगने को कहा है।

असम की मुख्यमंत्री हिमंता बिस्वा सरमा ने साधा पंजाब कोंग्रेस पर निशाना

वर्तमान में भारतीय जनता पार्टी के सभी बड़े और छोटे नेता पंजाब कांग्रेस पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सुरक्षा में हुई चूक को लेकर निशाना साध रहे हैं। हाल ही में असम के मुख्यमंत्री हेमंत बिस्वा सरमा ने भी पंजाब कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कि ‘शर्म की बात है कि आदरणीय पीएम श्री नरेंद्र मोदी को शहीद स्मारक पर जाते समय प्रदर्शनकारियों ने हुसैनीवाला में उनके काफिले को रोक दिया। पंजाब सरकार के द्वारा प्रधानमंत्री की सुरक्षा से समझौता करना गंभीर चिंता का विषय है और इसकी उच्चतम स्तर पर जांच होनी चाहिए’।

हिमंता ने आगे कहा कि ‘जहां आदरणीय पीएम पंजाब के सर्वांगीण विकास को सुनिश्चित करने के लिए हर संभव प्रयास कर रहे हैं, वहीं आज की घटना से पता चलता है कि कैसे कांग्रेस विकास में कम से कम दिलचस्पी रखती है और केवल राजनीति करना चाहती है। तथ्य यह है कि पंजाब के मुख्यमंत्री ने इस मुद्दे को संबोधित नहीं किया, महत्वपूर्ण बॉर्डर से जुड़े राज्य में इस तरह के मामले होना स्थिति को और भी बदतर बना देता है।’ इसके अलावा भी कई बातों को लेकर हिमंता बिस्वा सरमा ने पंजाब कांग्रेस पर निशाना साधा हैं।

शिवराज सिंह चौहान ने बताया सुरक्षा में हुई अचूक को पंजाब सरकार की ओछी हरकत

भारतीय जनता पार्टी के कई अन्य नेताओं के साथ मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भी पंजाब कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कि कांग्रेस हमेशा से विकास, लोक कल्याण, गरीब उत्थान और राष्ट्र के नव निर्माण की विरोधी रही है। जब पंजाब में विकास के नए युग की शुरुआत होनी थी, तो उसे न सिर्फ बाधित किया गया, बल्कि प्रधानमंत्री जी की सुरक्षा में लापरवाही कर देश के साथ धोखा करने की नाकाम कोशिश की गई’। उन्होंने आगे कहा कि ‘ओछी हरकतों के कारण देश कांग्रेस मुक्त होना चाहता है, तो क्या बौखलाहट में कांग्रेस नेता पद का दुरुपयोग कर ऐसी ही आपराधिक लापरवाही को अंजाम देंगे? सियासत में हार का बदला ऐसे लेने की कोशिश करेंगे? कभी लोकतंत्र का गला घोटने वाली कांग्रेस अब विभूतियों की सुरक्षा से भी खिलवाड़ करेगी?’ अर्थात सुरक्षा में हुई अचूक को शिवराज सिंह चौहान ने कांग्रेस सरकार की ओछी हरकत बताया हैं।

मुख्यमंत्री सहित मुख्य सचिव और डीजीपी भी थे गैर हाजिर

वर्तमान में सामने आ रही रिपोर्ट के मुताबिक जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का काफिला फ्लाईओवर पर फिरोजपुर में फंसा हुआ था तब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनके लोगों ने मुख्यमंत्री सहित मुख्य सचिव और डीजीपी से बात करने की कोशिश की थी लेकिन वह तीनों की गैर हाजिर थे। जानकारी के लिए बता दें कि फिरोजपुर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी निर्धारित कार्यक्रम में पंजाब के लिए 42 हजार करोड़ से अधिक की परियोजनाओं का शिलान्यास करने वाले थे। कहा जा रहा है कि सुरक्षा संबंधित व्यवस्थाओं के लिए पंजाब सरकार और मुख्य सचिव के साथ डीजीपी से भी पहले ही बात हो चुकी थी लेकिन उसके बावजूद भी प्रधानमंत्री की सुरक्षा में चूक हुई। इस सुरक्षा चूक को भारतीय जनता पार्टी के समर्थकों के द्वारा एक राज्य सरकार का एक षड्यंत्र बताया जा रहा हैं।

About Vipul Kumar

मैं एक हिंदी और अंग्रेजी लेखक और फ़्रंट एंड वेब डेवलपर हूं। वंदे मातरम

View all posts by Vipul Kumar →

Leave a Reply

Your email address will not be published.